Dhusman Se Bachne Ya Hifazat Ka Wazifa And Amal

अगर कोई दुश्मन आपको नाज़ायेज़ परेशान कर रहा है और आपकी ज़मीन, दुकान पर कब्ज़ा जमाये हुए है | अदालती करवाई का डर है या दुश्मन के किये किसी अदालती करवाई से बचने का वजीफा की तलाश में है तो आप ये वजीफा करके अपने दुश्मन से हिफाज़त कर सकते है | इस्लाम-ए-पाक में ऐसे कई वजीफा और अमल दुआ है जो आपकी और आपके अपनों की हिफाज़त करते है |

Dua for lost love

मौलवी सूफी सुल्तान जी को कुरान-ए-पाक का सही इल्म होने के कारण वो हमेशा अल्लाह के बन्दों की मदद करते है | उनके कई सालो के तजुर्बे के कारण ही माशाल्लाह आज कई लोग खुशहाल जिंदगी गुजर कर रहे है | मौलवी जी अल्लाह के फज़ल-ओ-करम से आज आपको एक ऐसा ही वजीफा बता रहे है जिसको करने के बाद आप अपने दुश्मन से अपनी हिफाज़त कर सकते है |

दुश्मन से हिफाज़त का वजीफा
हिंदी में
“बिस्स्मिल्लाह हिलाज़े ला युजुरु मा इस्मेहे शिओं फिलार्ज़े वाला फिस्समे व होअस सामी उल अलीम”
In English
“Bissmillah hilaze la yuzuru ma ismehe shiun filarze wala fissame wa hoas sami ul aleem”
इस वजीफा को सुबह श्याम सिर्फ 3 मर्तबा पड़े तो अल्लाह के नबी ने फ़रमाया की उसे दुनिया की कोई भी ताक़त परेशान नहीं कर सकती |

Dushaman se hifazat
ये वजीफा इतना कारगर है की जल्द ही आपकी और आपके बच्चो की आपके दुश्मन से हिफाज़त करेगा | 5 वक़्त नमाज पाबन्दी जरुर रखे | अल्लाह रहीम है करीम है वो अपने बन्दों की हर तरह से हिफाज़त करता है |
नोट: – वजीफा आपकी हिफाज़त के लिए है ना की किसी को नाज़ायेज़ परेशान करने के लिए तो किसी को नाज़ायेज़ तरीके से परेशान करने के लिए वजीफा का इश्तमाल ना करे |
इंशाल्लाह अल्लाहताला आपको हर मुश्किलातों से निजात दिलाएंगे | आमीन
वजीफा को अमलियत में लाने के लिए इज़ाज़त और मशवरा जरुर ले |
मौलवी सूफी सुल्तान
Call or Whatsapp: – +91-8289039485
Visit: – http://www.duaforlostlove.com/

 

Advertisements

Jinnat Ko Bulane Ya Dekhne Ka Amal Tarika

A बिस्मिल्लाह हिर्रहमान निर्रहीम

कई लोग जिन्नात को हमजाद के नाम से भी जानते है | अगर जिन्नात को आप अपने काबू में कर ले या उसे खुश कर दे तो वो आपकी हर मुराद पूरी कर देता है | इस्लाम-ए-पाक में भी जिन्नात का ज़िक्र है | मौलवी सूफी सुल्तान जी एक मात्र ऐसी व्यक्ति है जिन्हें कुरान-ए-शरीफ का इल्म और अल्लाहताला का रहमो-करम के कारण जिन्नात का दीदार हुआ है | अल्लाहताला के फज्लो करम से मौलवी जी ने कई लोगो को भी उनका दीदार कराया है और अपने तजुर्बे व कुरान-ए-पाक के वजीफा, अमल और दुआ से कई लोगो की मायूस जिंदगी में सुकून अता फ़रमाया है |

Jinnat ko bulane ka amal.jpg

जिन्नात को बुलाने या देखने का अमल तरीका

  1. सोने से पहले वुजू करके बिस्तर पर जाये |
  2. 4 कागज के टुकड़े ले कर उन पर ये 4 नाम लिख दे |
  3. फिरोन, करुण, शदाद, हामान
  4. अब इन कागज के टुकडो को अपने बिस्तर के 4 कोनो पर रख दे |
  5. सुबह ये चारो कागज के टुकडो को जला दे |
  6. ऐसा 21 दिन तक करना है इंशाल्लाह 21 दिन के अंदर आपकी हमजाद/जिन्नात से बात शुरू हो जाएगी |

Jinnat - Ghosts (Horror Story in Urdu)

नोट:- 1. इस अमल को बिना मशवरे के ना करे | अमल की इज़ाज़त जरुरी है |

  1. 2. इस अमल को करते वक़्त किसी से बात न करे न किसी को खबर होने दे |

इस तरह से करने पर इंशाल्लाह आपको हमजाद/जिन्नात का सपनो में दीदार जरुर होगा | सपनो में ही हमजाद को अपना जरुरी काम बता दे | इंशाल्लाह वो आपका काम हकीक़त में कर देंगे | आमीन

अमल को करने से पहले मौलवी जी से मशवरा जरुर करे क्योंकि सही से किया गया अमल हमेशा कारगर साबित होता है |

Contact Detail

Call or whatsapp: – +91-8289039485

Website:http://www.duaforlostlove.com/

Apni Pasand Ka Nikah Karne ke Liye Islamic Wazifa

 A  निकाह एक खुबसूरत लम्हा होता है और जब निकाह अपनी पसंद की लड़की/लड़के से हो तो ख़ुशी में चार चाँद लग जाते है | इत्फाकन कई मर्तबा ऐसा लम्हा आता है की या तो वालिद/वालिदा या फिर आपका हमनवा रिश्ता कबूल नहीं करता | परन्तु इस्लाम में ऐसे कई वजीफा, दुआ और अमल है जो आपकी इन मुश्किलातों को हल कर सकते है | खुदा की नजर में प्यार वो मुकम्मल मंजर है जो आपको उस रब का दीदार कराता है | मौलवी सूफी सुल्तान जी ने प्यार के उस मंजर को समजा और अपने कुरान-ए-शरीफ के नायाब तजुर्बे से कई लोगो को अपने प्यार से मिलवाया और उनके बीच निकाह का मुकम्मल रिश्ता कायम करवाया |

अपनी पसंद के निकाह के लिए वजीफा और अमल में लाने का तरीका

1. सबसे अव्वल ताज़ा वुजू बना लीजिये|
2. थोड़ी सी सफ़ेद शक्कर की पाक-साफ कागज़ पर पुडिया बना ले |
3. उसके बाद कुरान-ए-करीम की सुरह #105 “अलय्हीम तय्रान अबबिला तर्मिहीम बिहिजरातीं मिन सिजिलिन फजा अलाहुम का अस्फिन माकुलीन बस्तम खावाह ओ खुर माशूक का नाम बिन/बीनते माँ का नाम बोले अल हब खुद का नाम बिन/बीनते माँ का नाम“ ये पूरा 1 मर्तबा हुआ. लड़के के लिए बिन और लड़की के लिए बीनते बोले |
a. मिसाल के तौर पर – अगर लड़के के लिए पढ़ रहे है तो “बस्तम खावाह ओ खुर असलम बिन सलमा“
b. अगर लड़की के लिए पढ़ रहे है तो “बस्तम खावाह ओ खुर सीमा बीनते रेशमा”

Wazifa for love Nkah

4. नोट:- अगर माँ का नाम मालूम ना हो तो कहिये “हव्वा”
5. तीनो खावाह ओ खुर के बाद जिनके लिए अमल कर रहे है उनका नाम और उनकी माँ का नाम लेना है |
6. अल हब के बाद अपना नाम बिन/बीनते अपनी माँ का नाम लीजिये | इस तरह से 41 मर्तबा पढ़ के शक्कर की एक पुडिया पे दम करदे |
7. रोजाना 1 पुडिया पर करे और चीटी को खाने के लिए दीजिये | इस अमल को 7 रोज़ तक करे |
8. इंशाल्लाह आपका माशूक आपके पास होगा | फिर अपने निकाह की बात भी कर सकते है
9. नाज़ायेज़ रिश्ते के लिए बिल्कुल ना करे |

ये वजीफा कारगर है फिर भी अगर कोई मुश्किलात आये तो मौलवी जी से संपर्क करे +91- 8289039485 या उनकी वेबसाइट पर जाये http://www.duaforlostlove.com/

Anjan Dushman Se Hifazat Ka Wazifa Or Amal Me Lane Ka Tarika

एक ज़माना था तब दुश्मनी आमने सामने हुआ करती थी | आज के ज़माने में दुश्मनी का तरीका बदल गया है | हमला पीछे से और चुपके से होता है | आपके दुश्मन को आपकी सभी कमजोरियों का पता होता है जिस से वो आपकी दुखती नव्ज को दबाना जानता है | ऐसे में ये कहना मुश्किल हो जाता है की ऐसा क्यों हो रहा है और कौन कर रहा है | इन सब के लिए लोग आज कल टोटके और कई तरीको का इस्तेमाल कर रहे है | इन तरीको से हमे पता भी नहीं चल पाता की दुश्मन कौन है और वो ऐसा क्यों कर रहा है | ऐसा करने का मतलब सिर्फ इतना है की आपका दुश्मन या तो आपकी बरकत में कमी करना चाहता है या आपको नाजायज़ तकलीफ देना चाहता है | जो बंदा नमाज़ की पाबन्दी रखता है उसे कभी ऐसी तकलीफ नहीं आती | फिर भी अगर आपका ऐसा कोई दुश्मन है जिसके कारण आप तकलीफ में है और आप नहीं जानते की वो कौन है तो हमारे पाक दिल मौलवी सूफी सुल्तान जी से मिले | जिन्हें इस तरह के मर्ज़ का इलाज करना सही से आता है | इस्लाम-ए-पाक की कुरान-ए-शरीफ के वजीफा, अमल और दुआ में वो करामाती शिफ़ा है जिससे आपके हर मर्ज़ का इलाज होगा | मौलवी साहब का नायाब तजुर्बा आपको जल्द ही इन मुश्किलातों से निजात दिलाएगा | आमीन

Image: Two Copts fight with man said to be a Muslim

दुश्मन से हिफाज़त का वजीफा

“बिस्स्मिल्लाह हिलाज़े ला युजुरु मा इस्मेहे शिओं फिलार्ज़े वाला फिस्समे व होअस सामी उल अलीम”

  • दुश्मन से हिफाज़त के लिए ये वजीफा 3 मर्तबा पड़े तो अल्लाह के नबी ने फ़रमाया है की उसको दुनिया की कोई ताक़त नुकसान नहीं पंहुचा सकती |
  • वजीफा को अमल में लाने से पहले सलाह जरुर करे क्योंकि सही तरह से पढ़ा हुआ वजीफा ही कारगर साबित होता है |
  • वजीफा हमेशा सही नीयत से पढ़े क्योंकि वजीफा आपकी हिफाजत के लिए होता है ना की किसी को नुकसान पहुचाने के लिए |
  • 5 वक़्त नमाज की पाबन्दी रखने वाले बन्दे की अल्लाह हर मुश्किलात से हिफाज़त करता है |
  • इस तरह आप इंशाल्लाह आप अपने दुश्मन से निजात पा सकते है | आमीनDushman Se bachne ka amal

वजीफा को अमल में लाने के लिए और अपनी सभी मुश्किलातों के हल के लिए मौलवी जी से संपर्क करे +918289039485 या फिर http://www.duaforlostlove.com/ पर जाये |

Apne Pyar Se Nikah Karne Ki Dua And Wazifa

अ बिस्मिल्लाह हिर्रहमान निर्रहीम

प्यार अल्लाहताला का दिया नायाब तोहफा है | आप किसी से सच्चे दिल से मोहब्बत करते है परन्तु आपके प्यार के रास्ते में कई मुश्किलात आ जाती है | आपका प्यार एक तरफ़ा है या आप और आपके महबूब में बहुत प्यार है परन्तु आपके परिवार की रजामंदी नहीं है | आपके सच्चे प्यार में समाज की पाबन्दी है इस तरह की कई मुश्किलात है जो आपकी मोहब्बत में मुश्किलात करती है | आपकी उन सभी मुश्किलातों का हल कुरान-ए-पाक में दिया गया है | मौलवी सूफी सुल्तान ने इस्लाम-ए-पाक के कुरान-ए-शरीफ के वजीफा, अमल और दुआ को अपने जहन में उतारा और इन्ही वजीफा, अमल और दुआ से कई प्यार करने वालो को मिलवाया है उनका निकाह करवाया है | अल्लाह की राह पे चलते हुए मौलवी जी ने कई लोगो के मर्ज़ का इलाज किया है | आप भी अपने सच्चे प्यार को पा कर उनसे निकाह कर सकते है बिना किसी रुकावट के और जल्द ही |

Dua for true love

अपने सच्चे प्यार को पा कर उनसे निकाह करने का वजीफा

वाला-क़द फतान्ना सुलाय्य्मान व-अल-कायना अल कुर-सिय्यिही जसदन सुम्मा अनाबा हामिद बिन सलमा शेह्नाज़ बिन-ते-घज़लाह

वजीफा को अमल में लाने का तरीका

  1. ज़वाल के वक़्त के अलावा कभी भी कर सकते है |
  2. ताज़ा वुडू बना के अदद के फूल ले लीजिये |
  3. हर एक फूल के साथ ऊपर दिया हुआ वजीफा खुद के और मतलूब के वालिदा के नाम के साथ 7 मर्तबा पड़े |
  4. फिर ये फूल मतलूब को दे ताकि वो इसे सूंघ सके |
  5. इंशा अल्लाह वो ये फूल सूंघते ही आपसे मोहब्बत करने लगेगा या लगेगी | अमीन
  6. ये वजीफा करने से पहले जिसके लिए कर रहे है उनसे अपने निकाह के लिए 7 रोज़ का या अल्लाह निकाह इस्तिखारा कर लीजिये |
  7. 5 वक़्त नमाज़ की पाबन्दी रखे | कोई भी वजीफा, अमल या दुआ तभी कारगर होता है जब बन्दा नमाज़ी हो |
  8. वजीफा का इस्तमाल नाजायेज़ काम के लिए ना करे|

how to get marriage

वजीफा पड़ने से पहले मौलवी जी से सलाह ले | सही तरह से पड़ा गया वजीफा हमेशा कारगर साबित होता है | अपनी सभी मुश्किलातों के लिए मौलवी जी से सलाह करे +91-8289039485 या फिर वेबसाइट http://www.duaforlostlove.com/  पर जाये

Mushkilaaton Se Bachne Ya Dushman Ko Shikast Dene Ka Islamic Wazifa

इस जिंदगी से परेशान कई लोग ऐसे है जो कई मुश्किलातों की गिरफ्त में आ जाते है जिन्हें रास्ता मुकमल नहीं हो पाता| खुदा अपने उन सभी बन्दों की मदद करता है जो अल्ल्लाह की खिदमत में रहते है और उसके सजदे में अपना सर झुकाते है | वो परवरदिगार रहमो करीम है उसके दर से कोई खाली नहीं जाता | अल्लाह अपने बन्दों के लिए फ़रिश्ता बेझता है जो उसके बन्दों की मदद करता है |

हर मुश्किलातों का हल कुरान-ए-पाक में दिया हुआ है इसकी आयातों में वो कारगार शिफ़ा है जो हर मर्ज़ का इलाज है |

homeless

मुश्किलातों से बचने का मुकमल रास्ता

  1. सबसे पहले 5 वक़्त नमाज पाबन्दी हो क्योंकि कोई भी वजीफा या अमलियत इस से बड़ा नहीं हो सकता |
  2. जिस आयतें कुरानी या वजीफा का विर्द दिया है उसे सही तलाफुज्ज़ के साथ पड़े | वुजू के साथ पड़े तो बेहतर होगा |
  3. जिस अमल या वजीफा को जितने मर्तबा दिया गया है उतनी मर्तबा पड़े ना कम ना ज्यादा | अगर वक़्त मुक़र्रर है तो उसी वक़्त पड़े |
  4. अमलियत और वजीफे का इस्तमाल जायज काम के लिए करे वरना नुकसान भी हो सकता है |

अपने दुश्मन से बचने का या उसे शिकस्त देने का मुकमल वजीफा

knife-316655_640-640x360

     “लाइलाहा इल्ला अंता सुभानाका इन्नी कुन्तु मिनाज्ज़लिमीम”

इस वजीफे को रोजाना 4० मर्तबा 4० दिनों तक सवा लाख बार पड़ने से इंशाअल्लाह आपको फायेदा होगा पर इसे जायज काम के लिए ही जहन में लाये और मुकमल करे | ये वजीफा सिर्फ आपको फायेदा पहुचाने के लिए है न की किसी को नुकसान पहुचाने के लिए | वजीफे को अमलियत में लाने से पहले सलाह करे मौलवी सूफी सुलतान जी से जिन्हें कुरान-ए-शरीफ के वजीफा, अमल और दुआओं का बहतरीन इल्म है| जिन्होंने अपने बहतरीन तजुर्बे से कई लोगो को फायेदा दिया है|

“मुश्किलें कब रुकती है जब हो चट्टानी इरादा,

खुद ही से कर रखा है हमने ऊँचाइयों का वादा”

अल्लाह के बन्दों की खिदमत और हर मुश्किलातों के हल के लिए मौल्विजी से गुफ्तगू करे

+91-8289039485 या http://www.duaforlostlove.com/

Shohar Ko Pyar Me Deewana Karne Ki Dua in Islam

हर बेगम चाहती है की उनका शोहर उनसे बेपनाह इश्क फरमाये परन्तु कई बार ऐसा हो नहीं पाता | कई लोग चाहते की जिन्हें वो मोहब्बत करते है उन्ही से उनका निकाह हो परन्तु या तो वालिद नहीं मानते या फिर आपका प्यार नहीं मानता | ऐसी कई समस्याये है जो चलती रहती है | कई बार हम अपने प्यार को पा लेते है पर कुछ सालो बाद प्यार कम हो जाता है और तलाक की नौबत आ जाती है | इस्लाम की पाक कुरान ए शरीफ में ऐसी सभी समस्याओं का हल है | कुरान ए शरीफ अल्लाहताला का दिया हुआ वो खज़ाना है जो कभी खत्म नहीं होगा और यही वो है जिसमे सभी समस्याओं का हल है | पर कुछ लोगो की गलत सलाह और कम तजुर्बे के कारण लोगो को सही फायेदा नहीं पहुच पाता | जो लोग ऐसा करते है वो काफिर है क्योंकि अल्लाह प्यार का और नेक राह पर चलने का पैगाम देता है |

imgonline-com-ua-twotoone-jqYnFv2lRRvO

एक सच्चे मुस्लिम को अल्लाहताला का फरमान जो कुरान ए शरीफ में फ़रमाया गया है |

  • 5 वक़्त नमाजी हो |
  • रमजान में रोजेदार हो |
  • अपनी जिंदगी में 1 बार हज जाये |
  • अपनी आय का ¼ हिस्सा दान करे |
  • कभी भी हराम की कमाई न खाये (ब्याज या किसी भी तरह की) |
  • नेक राह पे चले और कुरान ए शरीफ को पढे |
  • सबकी मदद करे और अल्लाह के सभी बन्दों से प्यार करे |

मौलवी सूफी सुल्तान साहब जी अल्लाह का दिया फरमान ही अता कर रहे है | मौलवी साहब का मकसद अल्लाह के सभी बन्दों को ज्यादा से ज्यादा फायदा पहुचाना है | मौलवी साहब कुरान ए पाक में दिए वजीफा, अमल और दुआ से उन सब बन्दों की मदद कर रहे है जिन्हें प्यार, तलाक, औलाद, निकाह, शोहर या बीवी से संबधित कोई भी समस्या हो जिसका निदान तलाशने में वे नाकाबिल हो | ये सिर्फ और सिर्फ अल्लाहताला का रहमो करम और मौलवी साहब का कई सालो का तजुर्बा ही है जिससे की कई लोग अब तक फायदा ले चुके है और आज सुकून से अपनी जिंदगी बसर कर रहे है |

मोहब्बत वो बारिश की बूंद की तरह है जिसे छूने की चाह में हथेलिया तो गीली हो जाती है

पर हाथ खाली ही रह जाते है |

b1892ceb0e350efdc2c24375cf333407

मौलवी साहब के तजुर्बे और अल्लाहताला के रहमो करम से अब किसी के हाथ खाली नहीं रहेंगे | अपनी सभी मुसीबतो के हल के लिए कॉल करे +918289039485 या वेबसाइट पे जाये http://www.duaforlostlove.com/

Apne Sacha Pyar ya Shohar Ke Dil Me Pyar jagane ka Islamic Wazifa

आओ हम सब मिल कर अल्लाह को याद करे, उनकी सहायता प्राप्त करे उनसे माफ़ी मांगे। जो भी अल्लाह की राह पर चलता है वो कभी  गलत नहीं हो सकता, और जो भी अल्लाह की राह से मुकरने की कहता है उसे अल्लाह की राह का पता ही नहीं । हम इस बात की गवाही देते हैं कि अल्लाह से बड़ा इस दुनिया में कोई नहीं है |

हम गवाही देते हैं कि मुहम्मद (सरी) अल्लाह का बंदा है जो अल्लाह के बन्दों की हमेशा मदद करता है|

इस तरह के कथन इस्लाम में बेहद फायदेमंद और कारगर होंगे।

अगर देखा जाये तो इस्लामिक वज़ीफ़ा, अमल और दुआ में हर परेशानियों का हल है. कई लोगो के अधूरे तजुर्बे या अंध विश्वास में हम वही सही समझते है जो हमें बताया जाता है. इन सब के लिए मौलवी सूफी सुल्तान जी ने क़ुरान ए शरीफ का अध्ययन किया और पाया की वो लोग जो अपना सच्चा प्यार खो चुके है या जिनके शोहर उन्हें मोहब्बत नहीं करते, उन सब की परेशानियों का हल भी यही है. इस्लामिक अमल, वज़ीफ़ा और दुआ से इन परेशानियों से कई लोगो को फायदा पंहुचा है. कई लोगो ने अपने प्यार को पाया और आज उनसे निकाह करके खुश है. अल्लाहताला ने उन पर ऐसा रहमो करम बरसाया की निकाह के कई साल बाद भी वो आज खुश है. आप भी अगर इन परेशानियों में है तो सलाह करे. मौलवी जी का मकसद अधिक से अधिक लोगो को फायदा पहुँचाना है और उन्हें इस्लामिक वज़ीफ़ा, अमल और दुआ जैसे पाक तरीको से रुबरू कराना है. खोयी हुई मोहब्बत पाने का इस्लामिक तावीज़ से आप अपनी मोहोब्बत को पा सकते है|

manandwomandistant

अपने शोहर से अच्छे रिश्ते के लिए दुआ

नीचे दी गयी दुआ को 3 बार करे

( अली इमरान की 31 आयत) हर बार शुद्ध पानी के एक गिलास पर दाहिने हाथ की हथेली के माध्यम से झटके और अपने पति को पीने के लिए इसे दे।

अब बोले (हे मुहम्मद): “यदि आप अल्लाह से मोहब्बत करते हैं, तो मेरा दुआ कबूल करें: अल्लाह आपसे प्रेम करेगा और आपको आपके गुनाहों के लिए माफ़ कर देगा, वास्तव में। अल्लाह रहमोकरीम है जो सब के गुनाहों को माफ़ कर देता है।

कुतुम तुहब्बोनलालाह फतुबाई-ओनईई यूहबीबीकुमुल्लाह वा वाई यफ़्फ़िर लखम डी’उनुकोखम वल्लल्लाह घौफोरुरु राइम

12

इस तरह की ऐसी कई दुआये और वज़ीफ़ा है जिन्हें इस्लाम में फ़रमाया गया है जो की पाक है.

अपने सच्चे प्यार को पाने के लिए दुआ, अमल और वज़ीफ़ा या निकाह में होने वाली तकलीफ के लिए कॉल करे @ 8289039485 या हमारी वेबसाइट पर जाये http://www.duaforlostlove.com/