A  निकाह एक खुबसूरत लम्हा होता है और जब निकाह अपनी पसंद की लड़की/लड़के से हो तो ख़ुशी में चार चाँद लग जाते है | इत्फाकन कई मर्तबा ऐसा लम्हा आता है की या तो वालिद/वालिदा या फिर आपका हमनवा रिश्ता कबूल नहीं करता | परन्तु इस्लाम में ऐसे कई वजीफा, दुआ और अमल है जो आपकी इन मुश्किलातों को हल कर सकते है | खुदा की नजर में प्यार वो मुकम्मल मंजर है जो आपको उस रब का दीदार कराता है | मौलवी सूफी सुल्तान जी ने प्यार के उस मंजर को समजा और अपने कुरान-ए-शरीफ के नायाब तजुर्बे से कई लोगो को अपने प्यार से मिलवाया और उनके बीच निकाह का मुकम्मल रिश्ता कायम करवाया |

अपनी पसंद के निकाह के लिए वजीफा और अमल में लाने का तरीका

1. सबसे अव्वल ताज़ा वुजू बना लीजिये|
2. थोड़ी सी सफ़ेद शक्कर की पाक-साफ कागज़ पर पुडिया बना ले |
3. उसके बाद कुरान-ए-करीम की सुरह #105 “अलय्हीम तय्रान अबबिला तर्मिहीम बिहिजरातीं मिन सिजिलिन फजा अलाहुम का अस्फिन माकुलीन बस्तम खावाह ओ खुर माशूक का नाम बिन/बीनते माँ का नाम बोले अल हब खुद का नाम बिन/बीनते माँ का नाम“ ये पूरा 1 मर्तबा हुआ. लड़के के लिए बिन और लड़की के लिए बीनते बोले |
a. मिसाल के तौर पर – अगर लड़के के लिए पढ़ रहे है तो “बस्तम खावाह ओ खुर असलम बिन सलमा“
b. अगर लड़की के लिए पढ़ रहे है तो “बस्तम खावाह ओ खुर सीमा बीनते रेशमा”

Wazifa for love Nkah

4. नोट:- अगर माँ का नाम मालूम ना हो तो कहिये “हव्वा”
5. तीनो खावाह ओ खुर के बाद जिनके लिए अमल कर रहे है उनका नाम और उनकी माँ का नाम लेना है |
6. अल हब के बाद अपना नाम बिन/बीनते अपनी माँ का नाम लीजिये | इस तरह से 41 मर्तबा पढ़ के शक्कर की एक पुडिया पे दम करदे |
7. रोजाना 1 पुडिया पर करे और चीटी को खाने के लिए दीजिये | इस अमल को 7 रोज़ तक करे |
8. इंशाल्लाह आपका माशूक आपके पास होगा | फिर अपने निकाह की बात भी कर सकते है
9. नाज़ायेज़ रिश्ते के लिए बिल्कुल ना करे |

ये वजीफा कारगर है फिर भी अगर कोई मुश्किलात आये तो मौलवी जी से संपर्क करे +91- 8289039485 या उनकी वेबसाइट पर जाये http://www.duaforlostlove.com/

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s